सेल्फ स्टडी की प्लानिंग कैसे करे - 9 महत्वपूर्ण सुझाव/ 9 most important tips for self study in Hindi

सेल्फ स्टडी की प्लानिंग कैसे करे??

कम समय में बिना कोचिंग के तैयारी कैसे करें??

HOW TO MAKE BEST SELF STUDY PLAN IN HINDI 


यह सवाल बहुत सारे विद्यार्थियों के मन में उठता है। इस लेख में 9 ऐसे आसान तरीकों के बारे में बताया गया है जिनको अपनाकर किसी भी प्रतियोगी परीक्षाओं में बिना कोचिंग के घर से ही  सेल्फ स्टडी की अच्छी  प्लानिंग करके तैयारी  की जा सकती है।

9  most impotant tips for self study in hindi


most important tips for self study in Hindi, 

सेल्फ स्टडी की प्लानिंग कैसे करे, 

TOP 9 BEST tips for effective self study in Hindi ,

how to do study effectively in Hindi,

why is self study better,

importance and benefits of self study in Hindi,



बेस्ट सेल्फ स्टडी प्लान बनाने का -पहला  स्टेप 

FIRST STEP  -TO  MAKE A BEST SELF STUDY PLAN

आप जिस भी परीक्षा की तैयारी करने की योजना बना रहे हैं तो सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप उस परीक्षा के पूरे सिलेबस को अच्छी तरीके से समझें ,यहां पर यह जरूरी नहीं है कि जिस दिन आप परीक्षा की तैयारी करने की योजना बना रहे हैं उसी दिन आपको उस सिलेबस की पूरी समझ होना जरूरी हो,
 सिलेबस देखने से तात्पर्य यह है कि आप यह निर्णय कर पाए कि कौन-कौन से विषय तथा किन किन बिंदुओं से संबंधित जानकारी आपको रखनी है कौन-कौन से विषय आपकी परीक्षा में सम्मिलित किए गए हैं।
परीक्षा के सिलेबस को ध्यान पूर्वक देखने से हमें कई महत्वपूर्ण लाभ मिलते हैं --जैसे अगर हम परीक्षा के सिलेबस को अच्छी तरीके से देख लेते हैं अर्थात हमें यह पता होता है कि कौन-कौन से विषय और कौन-कौन सी जानकारी हमारी परीक्षा के लिए जरूरी है तो हम उन जानकारियों के लिए पहले से ही सजग रहते हैं ,वह जानकारी हमें समाचार पत्रों, टीवी चैनल या कहीं पर भी उस  विषय से संबंधित बातचीत होती है तो हम उस बातचीत को ध्यान पूर्वक सुनने का प्रयास करते हैं, और इससे हमें हमारी परीक्षा से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्यों की भी जानकारी मिल जाती है,
अगर हम सिलेबस को अच्छी तरीके से नहीं पड़ेंगे अर्थात सिलेबस की जानकारी अच्छी तरीके से नहीं रखेंगे तो हमें हर चीज किताबों से ही पढ़ने के लिए मजबूर होना पड़ेगा और इससे हमें परीक्षा की तैयारी में बहुत ज्यादा समय भी देना पड़ेगा।


importance and benefits of self study in Hindi

बेस्ट सेल्फ स्टडी प्लान बनाने का दूसरा स्टेप    

SECOND  STEP  -TO  MAKE A BEST SELF STUDY PLAN


आप  जिस भी परीक्षा की आप तैयारी कर रहे हैं उसके विगत वर्षों में पूछे गए प्रश्न पत्रों को देखें यहां। पर पिछले 5 वर्षों के प्रश्न पत्रों का अवलोकन करना बहुत महत्वपूर्ण होता है इन प्रश्न पत्रों को देखते समय आप प्रत्येक बिंदु का और प्रत्येक प्रश्न को गहराई से समझने का प्रयास करें यहां पर जल्दबाजी में प्रश्न पत्रों को देखने से आपको कोई लाभ नहीं होगा।
किसी भी परीक्षा के पुराने प्रश्न पत्रों को ध्यान पूर्वक देखने का सबसे बड़ा लाभ यह होता है कि हम उस परीक्षा की तैयारी के लिए अच्छी योजना बना सकते हैं, क्योंकि हमें प्रश्नों की कठिनाई का स्तर, प्रश्न पूछने की प्रवृत्ति ,प्रश्न पूछने की बारंबारता,सिलेबस के किस हिस्से से ज्यादा प्रश्न पूछे जा रहे हैं, किस हिस्से से  प्रश्न पत्र में प्रश्नों की संख्या बहुत कम है, आदि महत्वपूर्ण बातों को हम बहुत अच्छी तरीके से जान पाते हैं, इन बातों को जानने के उपरांत हम उस परीक्षा की तैयारी की रणनीति बेहतरीन तरीके से बना सकते हैं,


कम टाइम में  सेल्फ स्टडी करने का तीसरा स्टेप 
study kaise kare tips in hindi

THIRD STEP FOR SELF STUDY IN SHORT TIME 



जब हम परीक्षा के सिलेबस को अच्छी तरीके से जान लेते हैं तथा पुराने प्रश्न पत्रों का अवलोकन भी कर लेते हैं तो अब हमें अगला कदम स्टडी मैटेरियल को इकट्ठा करने के लिए अपनाना चाहिए।
उपरोक्त दोनों क्रियाओं करने के पश्चात हम, स्टडी मटेरियल में किन-किन चीजों की आवश्यकता है ,??
किन-किन चीजों की आवश्यकता नहीं है, किस प्रकार का स्टडी मैटेरियल उचित है ??आदि महत्वपूर्ण प्रश्नों का जवाब स्वयं के द्वारा प्राप्त करने में सफल होते हैं।
क्योंकि पुराने प्रश्न पत्रों और सिलेबस को देखने के पश्चात हमें परीक्षा के लिए उचित नोट्स एवं स्टडी मटेरियल की आवश्यकता का ज्ञान अच्छी तरीके से हो जाता है।
वहीं अगर हमें सिलेबस और पुराने प्रश्न पत्रों के बारे में जानकारी नहीं होगी तो हम भी बाजार से कुछ भी किताबें उठाकर ले आएंगे या फिर जो भी व्यक्ति जैसी सलाह दे उसी सलाह पर आंख बंद करके विश्वास करने को मजबूर हो जाएंगे ,जिससे हमें परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण तथ्यों को जानने की बजाय गैरजरूरी विषयों की पढ़ाई पर अपना समय बर्बाद करेंगे जो कि हमारी सफलता में सबसे बड़ी बाधा उत्पन्न करता है।
इसके उपरांत भी अगर आपको अच्छे स्टडी मैटेरियल को कलेक्ट करने में कुछ समस्या उत्पन्न होती है तो आप किसी ऐसे अभ्यर्थी से सलाह ले सकते हैं जिसने उस परीक्षा को हाल ही में उत्तीर्ण किया हो या आप उस अभ्यर्थी के नोट्स को भी अपनी तैयारी का आधार बना सकते हैं, तथा आवश्यकता अनुसार उन नोट्स में कुछ बदलाव एवं कुछ दूसरे नोट्स को भी सम्मिलित कर सकते हैं।



कम टाइम में   एग्जाम की तैयारी  करने का चौथा स्टेप  

NEXT STEP  FOR EXAM PREPARATION IN SHORT TIME BY SELF STUDY 


MOST IMPORTANT & SCIENTIFIC  WAYS FOR BEST SELF STUDY PLANNER  



 एग्जाम सिलेबस  तथा पुराने प्रश्न पत्रों को देखने एवं रिलेवेंट स्टडी मैटेरियल को इकट्ठा करने के पश्चात अब बारी आती है स्वयं के लिए एक बेहतरीन और आसान सेल्फ स्टडी प्लान बनाने की ,इसके लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना चाहिए वह बातें निम्न है।
➥सेल्फ स्टडी का प्लान बनाते समय सबसे पहले यह तय करें कि परीक्षा में अभी कितना समय शेष है, अगर समय पर्याप्त है तो आप ज्यादा कठोर स्टडी प्लान ना बनाएं।
➥जहां तक संभव हो सके, सेल्फ स्टडी प्लान में  जरूरी दैनिक गतिविधियों जैसे व्यायाम ,बाजार के कामों आदि को भी ध्यान में रखते हुए प्लान बनाना चाहिए।
9  most impotant tips for self study in hindi
 ➥प्लान बनाते समय पूरे सिलेबस के प्रत्येक हिस्से को कवर करना चाहिए।भले ही सिलेबस के अलग-अलग हिस्सों को आप कम या ज्यादा समय आवंटित कर सकते हैं परंतु कुछ हिस्से को बाद में कवर कर लेने के लिए प्लान में सम्मिलित नहीं करने की रणनीति बहुत घातक होती है, क्योंकि बाद में कैसी परिस्थितियां उत्पन्न होती है इसके बारे में हमें पता नहीं होता है। और कभी-कभी तो वह सिलेबस का हिस्सा हम परीक्षा की तिथि तक कवर नहीं कर पाते इसलिए जरूरी है कि सिलेबस के प्रत्येक हिस्से को स्टडी प्लान में सम्मिलित करना चाहिए तथा आवश्यकता अनुसार उसको समय आवंटित करना चाहिए।
➥सेल्फ स्टडी प्लान बनाते समय हमें यह कोशिश करनी चाहिए कि वह व्यवहारिक भी हो,
बहुत बार ऐसा होता है कि हम जब सेल्फ स्टडी प्लान या टाइम टेबल बनाते हैं तो हम उसमें एक विषय को पढ़ने के उपरांत तुरंत अगले विषय का समय निर्धारित कर लेते हैं ऐसा करने से हम उस स्टडी टाइम टेबल को ज्यादा दिनों तक फॉलो नहीं कर पाते हैं क्योंकि यह प्लान व्यावहारिक (प्रैक्टिकल)नहीं होता है इसलिए स्टडी प्लान बनाते समय किस चीज का भी विशेष तौर से ध्यान रखें कि की लगातार 1 घंटे से ज्यादा का प्लान ना बनाएं, ➥सिलेबस के अलग-अलग हिस्सों को आप अधिकतम 45 से 60  मिनट तक का समय आवंटित करें एवं अगले सब्जेक्ट को या टॉपिक को शुरू करने से पहले बीच में 10 मिनट का गैप, कम से कम जरूर ले इस गैप में आप अपने मनोरंजन के लिए विभिन्न क्रियाएं करें


IMPORTANT BOOKS FOR MPPSC EXAM 


बेस्ट सेल्फ स्टडी प्लान में आप  8 +  8 + 8 फार्मूले  का उपयोग करें यह एक वैज्ञानिक फार्मूला है जिसका वर्णन निम्न है।

➥यह फार्मूला वैज्ञानिक रीति के अनुसार कार्य करता है इसमें पूरे दिन की अवधि को जो कि 24 घंटे होती है उसे तीन बराबर हिस्सों में बांटा जाता है अर्थात 8+8+8+=24 घंटे
➥8-8 घंटे के तीन हिस्सों को अलग-अलग कार्यों के लिए आवंटित किया जाता है।
➥इसमें 8 घंटे सोने अर्थात आराम करने के लिए
➥8 घंटे अपना जरूरी दैनिक काम एवं शारीरिक क्रियाओं के लिए
 ➥तथा 8 घंटे अपनी पढ़ाई के लिए (विद्यार्थियों हेतु) आवंटित किए जाते हैं।
➥यह  8+8+8 का फार्मूला व्यवहारिक दृष्टिकोण पर आधारित है तथा आपको भी अपने स्टडी प्लान में इस फार्मूले का उपयोग करना चाहिए जिससे आप एक प्रैक्टिकल सेल्फ स्टडी प्लान बना सके और उसको परीक्षा तक आसानी से जारी रख सके।


NEXT STEP -- स्टडी के दौरान आने वाले डाउट को कैसे सोल्वे करे ??


जब आप अपने daily routine के हिसाब से पढ़ाई करने का प्लान बना लेते हैं तो आपको पढ़ाई के दौरान कुछ डाउट भी अवश्य आएंगे, अब बारी आती है कि इन डाउट को कैसे हल करें।
घर पर पढ़ाई करने के दौरान तथा बिना कोचिंग के अपनी पढ़ाई में आने वाले doubt को हल करने के लिए कुछ आसान तरीके निम्न है।
➥आप अपने डाउट को quora.com पर पोस्ट करके उसका आसानी से सलूशन पा सकते हैं quora.com एक  फ्री प्लेटफार्म है ,जो कि विभिन्न में doubt सॉल्विंग का बेस्ट ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है।
➥इसके अलावा आप अपने डाउट से संबंधित यूट्यूब पर वीडियो भी खोज सकते हैं यहां पर आपको बहुत ही आसान भाषा में अपने doubt से संबंधित अनेक वीडियो मिलेंगे।
➥इसके अलावा  doubt solving के लिए आप अपने दोस्तों की मदद भी ले सकते हैं।




किसी भी कोचिंग में एडमिशन लेने से पहले  इन बातो का रखे विशेष ध्यान 
7 important tips for clear exam from home without coaching 
important  study material for exams 
 mppsc /civil service exam preparation 

scientific study tips in Hindi
NEXT STEP-- सेल्फ स्टडी करते हुए CHAPTER / SYLLABUS का  TEST कैसे लगाए ??

तैयारी के दौरान आपको समय-समय पर अपनी तैयारी को परीक्षण करने के लिए self-test भी लगाने चाहिए इसके लिए आप पुराने पेपर को हल कर सकते हैं या किसी भी ऑनलाइन फ्री प्लेटफार्म को ज्वाइन कर सकते हैं।
घर बैठे ही अपनी तैयारी को जांचने के लिए आप अपने कुछ दोस्तों की भी मदद ले सकते हैं जिन्होंने किसी कोचिंग क्लास को ज्वाइन कर रखा है आप उनके टेस्ट की फोटो कॉपी करवा कर के भी वह टेस्ट स्वयं हल कर सकते हैं साथ ही साथ मॉडल क्वेश्चंस पेपर भी बाजारों में उपलब्ध रहते हैं उनको भी आप हल करके अपनी तैयारी का पता लगा सकते हैं।


IMPORTANT BOOKS FOR MPPSC EXAM 


scientific study tips in 
Hindi

NEXT STEP-- कम समय में SYLLABUS का REVISION  कैसे करे ,

किसी भी परीक्षा की तैयारी करने के लिए तैयार किए गए या पढ़े गए पाठ्यक्रम का रिवीजन करना बहुत महत्वपूर्ण कार्य है केवल पढ़ते रहना और उसका समय पर रिवीजन ना करना कभी भी अच्छे परिणाम नहीं देता है इसलिए सबसे ज्यादा आवश्यक बात यह है कि आप जो भी पढ़े उसका एक निश्चित अंतराल पर रिवीजन करते रहे।।
इसके लिए आप रिवीजन का 7+ 7 + 7 फार्मूला अपना सकते हैं यह फार्मूला भी वैज्ञानिक दृष्टिकोण पर आधारित है तथा पढ़े गए विभिन्न तथ्यों को लंबे समय तक याद रखने में बहुत ही कारगर साबित हुआ है इस फार्मूले की विशेषता निम्न है।
➥यहां पर पहले 7का मतलब होता है7 घंटे ,दूसरे 7 का मतलब 7दिन और तीसरे 7 का मतलब -7 सप्ताह होता है ,
➥अर्थात आप जो भी पढ़ रहे हैं उसको पहली बार में 7 घंटे बाद रिवीजन करना चाहिए फिर 7 दिन बाद उसका दोबारा REVISE  करना चाहिए तथा फिर उसे 7 सप्ताह के बाद बात फिर से रिवीजन करना चाहिए।
 ➥रिवीजन की इस फार्मूले को अपनाकर आप अपने सिलेबस को या पढ़ी गई सामग्री को बहुत अच्छी तरीके से और बहुत लंबे समय तक याद रख सकते हैं जिससे परीक्षा में सफलता प्राप्त करना आपके लिए बहुत आसान हो जाएगा।


NEXT STEP-- एग्जाम की प्रिपरेशन के दौरान हमेशा तनाव से मुक्त कैसे रहे??


 HOW TO DO EXAM PREPARATION WITHOUT ANY TENSION ?

तनाव मुक्त रहकर तथा उत्साह से भरपूर रहकर तैयारी करें।
9  most impotant tips for self study in hindi
परीक्षा की तैयारी एक लंबी प्रक्रिया होती है और इसके लिए आपको शारीरिक तथा मानसिक रूप से स्वस्थ रहना बहुत ही आवश्यक होता है तनाव लेकर के लंबे समय तक अध्ययन नहीं किया जा सकता है इसके लिए जरूरी है कि आप अपने शारीरिक संतुलन तथा मानसिक संतुलन को बनाए रखें इसके लिए आपको निम्न बातों पर ध्यान देना चाहिए।
कभी-कभी ऐसा होता है कि आपका किसी दिन पढ़ाई में बिल्कुल मन नहीं लगता है ऐसी स्थिति में आपको पढ़ाई को कुछ समय के लिए रोक देना चाहिए ,तनाव लेकर जबरदस्ती पढ़ाई करने से कोई फायदा नहीं मिलता है उल्टा इससे आपको सर दर्द एवं घबराहट की समस्या भी हो सकती है।
पढ़ाई के दौरान आपको कुछ समय मनोरंजन के लिए भी निकालना चाहिए इसके लिए सबसे अच्छी सलाह यही होगी कि आप 1 सप्ताह में अपनी पसंद की कोई एक फिल्म जरूर देखें चाहे तो आप कोई अच्छा वेब सीरीज भी फॉलो कर सकते हैं या आप मनोरंजक कहानियां भी पढ़ सकते हैं ,आउटडोर गेम एक्टिविटी में भी आपको हिस्सा लेना चाहिए यह आपको शारीरिक रूप से संतुलित बनाए रखने में बहुत ही मददगार होता है।
इसके अलावा आपको कुछ महापुरुषों की जीवनी भी अवश्य पढ़नी चाहिए इससे आपको बहुत ही सकारात्मक ऊर्जा मिलती है साथ-साथ आप उन विद्यार्थियों या अभ्यर्थियों के वीडियो या इंटरव्यू भी  सुन सकते हैं जिन्होंने उस परीक्षा में सफलता प्राप्त की है इससे आपको उत्साह मिलता है तथा आप तनावमुक्त रहते हैं।
संगीत या म्यूजिक में भी तनाव से मुक्त रखने की शक्ति होती है जब भी आप अपने आप को कुछ तनाव या टेंशन में महसूस करें तो आपको अपनी पसंद के कुछ गाने जरूर सुनना चाहिए या चाहे तो आप नए गानों को सुनकर के भी अपना मनोरंजन कर सकते हैं।


LAST STEP-- एग्जाम से एक सप्ताह पहले की क्या  रणनीति अपनानी चाहिए?
एग्जाम के लास्ट टाइम में क्या पड़ना चाहिए ??



अंतिम चरण में जब आप की परीक्षा में अंतिम 1 सप्ताह का समय बचा हो तब ऐसी स्थिति में आपको कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए वह बातें निम्न है!
9  most impotant tips for self study in hindi
➥परीक्षा के अंतिम सप्ताह में कुछ भी नया पढ़ने का प्रयास नहीं करना चाहिए क्योंकि नया पढ़ने में कुछ नए डाउट उत्पन्न होंगे तथा उन डाउट के सोल्व ना होने से आपको टेंशन होगी जिसके कारण  अपके उत्साह में कमी आएगी जो की परीक्षा में सफलता के लिए बहुत ही नुकसानदायक है।
➥परीक्षा के अंतिम सप्ताह में आपको केवल चुनिंदा टॉपिक्स का ही रिवीजन करना चाहिए परीक्षा के अंतिम सप्ताह में आपको पर्याप्त मात्रा में नींद लेना चाहिए तथा शुद्ध भोजन का ही उपयोग करना चाहिए बाजार का खाने से भी आपको बचना चाहिए।
➥परीक्षा के अंतिम सप्ताह में आपको पर्याप्त मात्रा में नींद भोजन पानी व्यायाम मनोरंजन आदि क्रियाओं में अपने संतुलन को बिल्कुल भी नहीं बिगड़ने देना चाहिए।


IMPORTANT BOOKS FOR MPPSC EXAM 


मुझे आशा है कि आपको यह लेख पसंद आया होगा अगर आपके कुछ सुझाव है या आप कुछ प्रश्न पूछना चाहते हैं तो आप नीचे कमेंट बॉक्स में अपने सुझाव भी दे सकते हैं और अपने प्रश्न भी पूछ सकते हैं आपके सुझाव एवं प्रश्नों का स्वागत है।।।।।


किसी भी कोचिंग में एडमिशन लेने से पहले  इन बातो का रखे विशेष ध्यान 
7 important tips for clear exam from home without coaching 
important  study material for exams 
mppsc /civil service exam preparation 




Previous
Next Post »