Ads by Eonads

[imp*] पृथ्वी की आंतरिक संरचना - internal structure of earth in Hindi

पृथ्वी की आंतरिक संरचना- क्रस्ट मेंटल कोर [Earth crust Mantle Core]


पृथ्वी की आंतरिक संरचना की तीन परतों -अर्थ क्रस्ट (भूपर्पटी)आवरण (मेंटल) एवं आंतरिक भाग (कोर)की विभिन्न विशेषताओं से संबंधित प्रश्न सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं।





 यहाँ पृथ्वी की आंतरिक संरचना एवं इसकी विभिन्न परतों से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्यों को आसान भाषा में चित्र के साथ दर्शाया गया है, जो कि प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे एमपीपीएससी, एसएससी पुलिस भर्ती परीक्षा, शिक्षक पात्रता परीक्षा ,बैंकिंग एग्जाम, रेलवे एग्जाम, सिविल सेवा परीक्षा आदि की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए काफी महत्वपूर्ण है।
पृथ्वी की त्रिज्या अर्थात पृथ्वी की सतह से लेकर की केंद्रीय भाग तक की लंबाई  6370 किलोमीटर है।
पृथ्वी की सतह से लेकर  केंद्रीय भाग तक की दूरी को विभिन्न विशेषताओं जैसे तापमान ,आयतन ,घनत्व आदि की विशेषताओं के आधार पर तीन भागों में विभाजित किया गया है -भू पर्पटी ,आवरण एवं आंतरिक भाग (Earth crust Mantle,Core)





भू पर्पटी -Earth crust की प्रमुख विशेषताएँ -

पृथ्वी की आंतरिक संरचना में भूपर्पटी पृथ्वी के ऊपरी भाग वाली परत को कहते हैं 

भूपर्पटी की मोटाई लगभग 34 किलोमीटर है।

भूपर्पटी में सिलिका और एल्युमीना तत्व की प्रधानता है।

सिलिका और एलुमिना तत्वों को Sial (सियाल )के नाम से जाना जाता है।

अर्थ क्रस्ट का औसत घनत्व 2.7 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर है।

भूपर्पटी का आयतन पृथ्वी के कुल आयतन का 0.5 प्रतिशत है।

भूपर्पटी की रचना में निम्नलिखित तत्व की प्रधानता होती है

ऑक्सीजन 46.60%  

सिलिकॉन 27.72%

एल्युमीनियम 8.13%

लोहा 5% 

कैल्शियम 3.6%

इन तत्वों के अलावा कार्बन, हाइड्रोजन ,फास्फोरस ,मैगनीज, मैग्नीशियम पोटेशियम, टाइटेनियम, आदि तत्व भी सूक्ष्म मात्रा में पाए जाते है।


आवरण -Mental की प्रमुख विशेषताएँ -

यह पृथ्वी की आंतरिक संरचना का मध्य भाग है ,जो की भूपर्पटी एवं केंद्रीय भाग के बीच स्थित है ,

मेंटल की मोटाई 2900km है ।

यह मुख्य रूप से बेसाल्ट पत्थरों से बना हुआ है।

 मैग्मा चेंबर इसी भाग में पाए जाते हैं ,इस भाग  का आयतन पृथ्वी के संपूर्ण  आयतन का 83% है।

मेंटल का घनत्व 3.5 से 5.5 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर होता है।

इस भाग में  सीमा/Sima (सिलिकॉन + मैग्निशियम)तत्व की प्रधानता होती है।



केंद्रीय भाग -Core की प्रमुख विशेषताएँ -

पृथ्वी के केंद्रीय भाग कोर कहलाता है यह द्रव अथवा प्लास्टिक अवस्था में मौजूद है ।

पृथ्वी के केंद्रीय भाग (कोर )का घनत्व 13 ग्राम प्रति घन सेंटीमीटर है।

इस भाग का आयतन संपूर्ण पृथ्वी के आयतन का 16% है।

Core (केंद्रीय भाग) Nife अर्थात  निकल एवं फेरस (आयरन )से मिलकर बना है।

पृथ्वी का केंद्रीय भाग पृथ्वी के अंदर 2900 किलोमीटर से लेकर पृथ्वी के केंद्र अर्थात 6370 किलोमीटर तक विस्तृत है।

पृथ्वी के केंद्रीय भाग में उच्च तापमान पाया जाता है।

पृथ्वी के  Core को दो भागों में आंतरिक क्रोड एवं बाहरी कोर (inner core and outer core )में विभाजित किया जाता है ।

बाहरी कोर आंशिक तरल अवस्था में हैं जबकि आंतरिक कोर ठोस अवस्था में मौजूद है।।




Previous
Next Post »